गुड़ और घी सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद, नियमित करें सेवन

स्वस्थ रहने के लिए अच्छा आहार लेना बहुत जरूरी है। इम्यूनिटी कमजोर होने पर कई तरह की बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं। इसके साथ ही शरीर में विषाक्त पदार्थ भी जमा होने लगता है। इससे बचने के लिए भोजन में हेल्दी खाद्य पदार्थ शामिल करना चाहिए।

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आपको विदेशी खाद्य पदार्थ खरीदने की जरूरत नहीं है। स्वस्थ रहने के लिए घर की रसोई में पहले से उपलब्ध खाद्य पदार्थों का उपयोग किया जा सकता है। हालांकि आपको सही तरीके और सही समय पर इन खाद्य पदार्थों का उपयोग करना आना चाहिए। ऐसा ही एक खाद्य पदार्थ है गुड़ और घी। लंच के बाद इसका सेवन करने से इम्यूनिटी मजबूत होती है।

इस जादुई कॉम्बिनेशन का करें इस्तेमाल
न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर ने हाल ही में एक ऐसा आयुर्वेदिक उपाय साझा किया, जो न केवल इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करता है बल्कि हार्मोन से संबंधी समस्याओं को भी नियंत्रित करता है। फिट रहने के लिए लंच के बाद गुड़ और घी का सेवन बहुत फायदेमंद है। यह कॉम्बिनेशन न केवल चीनी खाने की इच्छा को रोकता है बल्कि इम्यूनिटी को भी बढ़ाता है।

घी और गुड़: आयुर्वेदिक उपाय
आयुर्वेद में घी और गुड़ का बहुत महत्व है। इन दोनों को सुपरफूड माना जाता है। इनमें कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं।

गुड़ और घी में पोषक तत्वों की मात्रा
रिफाइंड शुगर की अपेक्षा गुड़ अधिक स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है। इसमें पोषक तत्वों की मात्रा होती है, जो ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ने से रोकता है। गुड़ में आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, विटामिन बी और विटामिन सी होते हैं। वहीं, घी अलग-अलग तरह के विटामिन और फैटी एसिड का स्रोत है। इसमें विटामिन A, E और D पाया जाता है। इसके अलावा घी में विटामिन K भी होता है जो हड्डियों में कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है।

सेहत के लिए गुड़ और घी के फायदे
गुड़ और घी दोनों इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं और हार्मोनल असंतुलन की समस्या को नियंत्रित करता है। इस दोनों का एक साथ सेवन करने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते हैं। इसके अलावा गुड़ और घी त्वचा, बाल और नाखून को भी स्वस्थ रखता है। साथ ही गुड़ एनीमिया की समस्या भी दूर करता है।

कैसे करें गुड़ घी का सेवन
रुजुटा के अनुसार, लंच के बाद एक चम्मच घी में गुड़ मिलाकर खाना चाहिए। इसे रात के भोजन के बाद भी खाया जा सकता है।