सरकारी आयोजन में भीड़ न जुटाने पर पटवारियों को नोटिस

भोपाल
मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि के कार्यक्रम में किसानों की भीड़ न ला पाने पर सीधी जिले के गोपदबनास तहसील में पटवारियों को नोटिस जारी किए गए हैं। तहसीलदार लक्ष्मीकांत मिश्रा द्वारा नोटिस सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इन नोटिस की चर्चा इसलिए भी है क्योंकि इसमें पटवारी संघ के प्रांताध्यक्ष उपेंद्र सिंह बाघेल का नाम भी शामिल है। हालांकि बाघेल का कहना है कि उन्हें नोटिस नहीं मिला है न ही कोई नोटिस जारी हुआ है।

किसान सम्मान निधि के कार्यक्रम में 26 फरवरी को सभी पटवारियों को 20-20 किसानों को जिला व तहसीलस्तर पर आयोजित कार्यक्रम स्थल के निर्देश सीधी जिले में दिए गए थे। इसका खुलासा तहसीलदार मिश्रा के वायरल नोटिस से हुआ है। इसमें कहा गया है कि किसानों को लाने का काम बाघेल व अन्य कुछ पटवारियों ने नहीं किया है। इसलिए उन्हें स्वेच्छाचारी और लापरवाह बताते हुए तीन दिन में जवाब मांगा गया। साथ ही एक दिन के लिए नो वर्क नो पे का नोटिस दिया गया। बताया गया कि ऐसा ही नोटिस कुछ अन्य पटवारियों को भी मिला है।

दूसरी ओर नोटिस वायरल होने के मामले में संघ से जुड़े कुछ अन्य पटवारियों ने कहा है कि पटवारी का काम किसान को ढोकर लाना नहीं है। किसानों को सूचना दे दी गई थी और वे नहीं आए तो किसान क्या कर सकते हैं? सरकार पटवारियों को किसानों को ढोने के लिए फंड नहीं देती है। इस पर पटवारी संघ के प्रांताध्यक्ष बाघेल ने कहा कि नोटिस जारी नहीं हुआ है। तहसीलदार ने इसे तैयार जरूर कराया था लेकिन जब उन्हें वस्तुस्थिति बताई गई तो किसी को नोटिस नहीं दिया गया।