दूसरे देते पकड़ाया गया ‘मुन्नाभाई’

इंदौर
 इंदौर के नंदानगर स्थित गवर्नमेंट इंडस्ट्रियल ट्रैनिंग इंस्टिट्यूट (आइटीआइ) में एक परीक्षार्थी को अन्य छात्र के नाम पर परीक्षा देते पकड़ा है। फीटर ग्रेड का पेपर हल करने आए इस मुन्नाभाई पर पर्यवेक्षक को शंका हुई। बाद में आइटीआइ प्रबंधन ने दूसरे छात्र को भी बुलवा लिया। पूछताछ में छात्र ने परीक्षा में दूसरे विद्यार्थी को बिठाने के पंद्रह सौ रुपए देना बताया है। मामले में एक प्राइवेट आइटीआइ का कोर्स करवाने वाली संस्था के संचालक का नाम सामने आया है। आइटीआइ प्रबंधन ने दोनों छात्रों को पुलिस को सौंप दिया है। फिलहाल पुलिस छात्रों के बयान पर मामले की जांच करने में जुटी है।

मिली जानकारी के अनुसार हीरानगर थाना क्षेत्र के नंदानगर स्थित ITI कॉलेज में सोमवार को इंजीनियरिंग ड्राइंग का पेपर था। सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक चलने वाले इस पेपर में 165 छात्र पहुंचे। वैसे तो सभी पेपर ऑनलाइन हो रहे हैं लेकिन ड्राइंग का पेपर ही ऑफलाइन था। 10 बजे से शुरू हुए पेपर में सवा 10 बजे तक सभी छात्रों को उत्तरपुस्तिकाएं दे दी गई थीं। इसके बाद बच्चे पेपर देने में व्यस्त हो गए। पर्यवेक्षक भी अपने काम में लग गए और छात्रों पर नजर रखते हुए चेकिंग करने लगे।

चेकिंग के दौरान 38 साल के विष्णु भामगरे निवासी महालक्ष्मी नगर के पास पहुंचे। उन्होंने उसके बारे में पूछा और उसकी ID चेक की। ID देख उनका माथा ठनका। आधार कार्ड में छात्र की दाढ़ी नहीं थी जबकि पेपर दे रहे छात्र ने दाढ़ी बढ़ा रखी थी। वैसे तो उसका चेहरा थोड़ा मिल रहा था, लेकिन ITI द्वारा हर छात्र की जो होलाे टिकट निकाली जाती है, उससे वह बिल्कुल मैच नहीं कर रहा था। उसकी उम्र भी उन्हें कम लग रही थी। शक होने पर उन्होंने उससे पूछताछ की तो वह घबरा गया। सख्ती दिखाने पर उसने सबकुछ उगल दिया।