आईटीआई के छात्र अब कर सकेंगे प्रैक्टिकल

 पटना 
राज्य के सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में पढ़ने वाले छात्रों को अब प्रैक्टिकल में परेशानी नहीं होगी। खासकर बिजली की किल्लत के कारण जिन संस्थानों में प्रशिक्षण ले रहे छात्र अब तक प्रैक्टिकल नहीं कर पा रहे थे, वैसे संस्थानों को चिह्नित कर बिजली आपूर्ति होगी। इसके लिए तार, पोल से लेकर आवश्यक क्षमता के ट्रांसफॉर्मर लगाए जाएंगे। श्रम संसाधन विभाग ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है।

राज्य में 149 सरकारी आईटीआई हैं। इसमें पहले प्रैक्टिकल के लिए आवश्यक उपकरण नहीं थे। अभियान चलाकर विभाग ने सभी आईटीआई में आवश्यक उपकरणों की खरीदारी की, लेकिन इसके बाद समस्या इन उपकरणों को चलाने की आ गई। चूंकि आईटीआई के चालू होते समय वैकल्पिक व्यवस्था के तहत बिजली कनेक्शन लिया गया था। अधिक उपकरण आने के कारण आईटीआई के लिए वह बिजली कनेक्शन कारगर नहीं रहा। बिना प्रैक्टिकल के छात्रों को सबसे अधिक परेशानी व्यवहारिक ज्ञान की हो रही थी। थ्योरी की जानकारी होने के बजाए आईटीआई में प्रैक्टिकल का होना अतिआवश्यक है। लेकिन पर्याप्त बिजली आपूर्ति नहीं होने के कारण छात्र जैसे-तैसे प्रैक्टिकल कर रहे थे। इसका नतीजा यह हो रहा था कि पास करने के बाद जब छात्र काम करने लगते तो उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता। इसे देखते हुए विभाग ने तय किया कि आईटीआई के लिए न केवल अधिक क्षमता के ट्रांसफॉर्मर लगाए जाएं, बल्कि बिजली की बुनियादी सुविधाओं को भी दुरुस्त किया जाए।