रानी कमलापति स्टेशन में बढ़ेगा दो दर्जन ट्रेनों का स्टॉपेज

भोपाल
रानी कमलापति स्टेशन के लोकार्पण के बाद अब टेÑनों के स्टॉपेज व शिप्टिंग की भी प्लॉनिंग और तेज हो गई है। संभावना जताई जा रही है दिसंबर महीने के अंत तक इस प्रपोजल में रेलवे  बोर्ड की अंतिम मुहर लग सक ती है।  इससे एक ओर जहां पैसेंजर्स फुटफॉल (यात्रियों के आवागमन की संख्या) मैनेज हो सकेगा। वहीं,रानी कमलाति स्टेशन के नजदीक   वाले यात्रियों को भोपाल स्टेशन जाने से छुटकारा मिलेगा। इसके अलावा एक दर्जन टेÑनों के शिफ्टिंग की भी प्लॉनिंग की जा रही है।

आधिकारिक सूत्रों की मानें तो इसकी कवायद शुरू की जा चुकी है।  गौरतलब है कि अभी भोपाल स्टेशन में अभी करीब 130 टेÑनों का स्टॉपेज है और 20 हजार यात्रियों का पैसेंजर्स फुटफॉल है। वहीं, रानी कमलापति स्टेशन में महज 102 टेÑनोें का ही स्टॉपेज है और 13 हजार यात्रियों का ही पैसेंजर्स फुटफॉल है।  ऐसे में अभी भोपाल स्टेशन में यात्रियों का आवागमन ज्यादा रहता है जबकि  रानी कमलापति स्टेशन में पर्याप्त स्पेस के बाद भी यात्रियों की संख्या काफी कम है। इसकी वजह कम टेÑनों का स्टॉपेज है।

इसी बात को मद्देनजर रखते हुए रानी कमलापति स्टेशन में टेÑनों के स्टॉपेज बढ़ाए जाने की प्लॉनिंग की जा रही है। आधिकारिक सूत्रों की मानें तो रानी कमलापति स्टेशन में दो दर्जन टेÑनों का स्टॉपेज  और एक दर्जन टेÑनों की शिप्टिंग का प्रपोजल रेलवे बोर्ड भेजा जा चुका है बोर्ड से अनुमति मिलने के बाद जल्द ही इसका नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा।

रानीकमलापति स्टेशन के री-डेवलपमेंट के पहले तक टेÑनों के स्टॉपेज की संख्या पर्याप्त थी,लेकिन री-डेवलपमेंट के दौरान ज्यादातर टेÑनों का स्टॉपेज सस्पेंड कर दिया गया था,लेकिन अब रानी कमलापति स्टेशन का लोकार्पण हो चुका है ऐसे में अब फिर से टेÑनों की संख्या बढ़ाए जाने की कवायद तेज हो गई है। सूत्रों के मुताबिक जो टेÑने भोपाल स्टेशन से शुरू होती  हैं उन्हें अब रानी कमलापति  स्टेशन से शुरू किया जाएगा। इससे एक ओर रेलवे को भी रेवेन्यू में भी इजाफा होगा । वहीं दूसरी ओर यात्रियों को और अधिक सुविधा होगी। अभी ज्यादातर टेÑनों के स्टॉपेज रानी कमलापति स्टेशन पर न होने से उन्हें भोपाल स्टेशन जाना पड़ रहा है। इसमें भोपाल-दमोह राज्यरानी, भोपाल-इटारसी विंध्याचल एक्सप्रेस,भोपाल-खजुराहो महामना आदि टेÑनें प्रमुख हैं।