सुरक्षा के किए कड़े इंतजाम, जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास पीएम मोदी आज करेंगे

ग्रेटर नोएडा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास करेंगे। पुलिस ने उनकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। जनसभा स्थल की सीसीटीवी से निगरानी की जाएगी। इसके लिए पुलिस ने मंच और उसके आसपास 200 से अधिक कैमरे लगाए हैं। इनके जरिये कंट्रोल रूम से नजर रखी जाएगी। पूरे कार्यक्रम की पुलिस द्वारा वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस आयुक्त ने बुधवार को सभी संबंधित अधिकारियों को ब्रीफ किया।

पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने जनसभा के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर ड्यूटी में तैनात अधिकारियों को ब्रीफ किया। इसके तहत पुलिस आयुक्त ने गौतमबुद्धनगर सहित अन्य जिलों के पुलिस अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था बिंदुओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने निर्देश दिए कि जनसभा में आने वाले किसी भी व्यक्ति के पास शस्त्र, मादक पदार्थ, काले झंडे सहित अन्य प्रतिबंधित सामान लाने की अनुमति नहीं है। ऐसे में कड़ी चेकिंग के बाद ही प्रवेश की अनुमति दी जाए। इसके अलावा उन्होंने कार्यक्रम स्थल का भी दौरा किया।

4 घंटे पहले ड्यूटी पर पहुंचेंगे पुलिसकर्मी
जनसभा शुरु होने से चार घंटे पहले सभी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को अपने ड्यूटी के स्थान पर पहुंचना होगा। पुलिस आयुक्त ने कहा कि सभी शाम छह बजे तक ड्यूटी पर तैनात रहेंगे। इसके अलावा सभी अपने आईकार्ड एवं ड्यूटी कार्ड साथ में रखे। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के दौरान आने वाले वाहनों को लेकर भी यातायात एडवाइजरी जारी कर दी है।

 
अपर पुलिस आयुक्त लव कुमार ने बताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस ने कड़े बंदोबस्त किए हैं। करीब पांच हजार पुलिसकर्मी सुरक्षा व्यवस्था में तैनात किए गए हैं। यदि ड्यूटी के दौरान कोई पुलिसकर्मी लापरवाही बरतते हुए पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पुलिस की टीम संदिग्ध लोगों पर भी नजर रखेंगी। इसके लिए सादे कपड़ों में भी पुलिस की तैनाती की गई है। सुरक्षा की दृष्टि से पूरे जनसभा स्थल की निगरानी करने के लिए 200 से अधिक सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं जिसके लिए सभा स्थल पर ही एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। इसके साथ ही पूरे कार्यक्रम की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के दौरान तत्पर रहने के कड़े निर्देश दिए गए हैं।

 
पुलिस ने कोविड-19 के नियमों को ध्यान में रखते हुए और सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि से भीड़ पर काबू पाने के लिए सात प्रवेश द्वार बनाए हैं। इनके गेटों पर तैनात पुलिसकर्मियों द्वारा पूरी तलाशी के बाद ही लोगों को अंदर जाने दिया जाएगा। यदि कोई व्यक्ति संदिग्ध नजर आता है तो उसे अंदर नहीं घुसने दिया जाएगा। कोई भी व्यक्ति रैली में हथियार मोबाइल, कैमरा, काले कपड़े और संदिग्ध वस्तु आदि लेकर प्रवेश नहीं करेगा। पुलिस की सघन तलाशी के बाद ही अंदर जाने की अनुमति मिलेगी।