गूगल और एलजी इस्तेमाल नहीं करेंगी क्वालकॉम स्नैपड्रैगन प्रोसेस

ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन प्रोसेसर बनाने वाली दुनिया की टॉप कंपनी Qualcomm ने पिछले साल अपने फ्लैगशिप प्रोसेसर स्नैपड्रैगन 855 और स्नैपड्रैगन 855+ पेश किए थे। कंपनी के 800 सीरीज के प्रोसेसर सबसे तेज ऐंड्रॉयड प्रोससर होते हैं। साल 2019 में लगभग सभी स्मार्टफोन मेकर कंपनियों ने कम से कम एक हैंडसेट ऐसा जरूर लॉन्च किया जिसमें इन प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया था। हालांकि इस साल शायद ऐसा ना हो। कुछ रिपोर्ट्स की मानें, तो गूगल और एलजी जैसी दिग्गज कंपनियां स्नैपड्रैगन 800 सीरीज के प्रोसेसर के साथ आने वाले फोन में अब इन प्रोसेसर का इस्तेमाल नहीं करेंगी।
9to5Google की रिपोर्ट में कहा गया है कि गूगल के Pixel 5 स्मार्टफोन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 765 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाएगा, जो 5जी सपॉर्ट के साथ आएगा। वहीं, एक कोरियन वेबसाइट ने बताया कि ऐसा ही कुछ LG के G9 ThinQ स्मार्टफोन के साथ भी है। इसमें क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 765G प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाएगा।

तो इसलिए सबसे तेज ऐंड्रॉयड प्रोसेसर यूज नहीं कर रहीं कंपनियां
इन दोनों स्मार्टफोन की लॉन्चिंग तो अभी भी बाकी है। वहीं नोकिया स्मार्टफोन बनाने वाली HMD ग्लोबल तो ऐसा एक स्मार्टफोन लॉन्च भी कर चुकी है जिसमें फास्टेस्ट ऐंड्रॉयड प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाना था लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कंपनी ने Nokia 8.3 स्मार्टफोन को स्नैपड्रैगन 765G प्रोसेसर के साथ लॉन्च किया। यह कंपनी का पहला 5G हैंडसेट था।

Ars Technica की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रोसेसर बदलने के पीछे की सबसे बड़ी वजह यह हो सकती है कि स्नैपड्रैगन 865 प्रोसेसर एक महंगा चिपसेट है। इतना ही नहीं, इस प्रोसेसर के लिए हार्डवेयर (जिसमें X55 मॉडम, मुश्किल मदरबोर्ड डिजाइन और ज्यादा स्पेस शामिल है) भी उतना ही पावरफुल चाहिए होता है। इसके लिए कंपनियों को बड़ी डिस्प्ले और बड़ी बैटरी भी लगानी पड़ती है। इससे कंपनियों को सिर्फ चिपसेट ही नहीं, पूरा स्मार्टफोन ही महंगा पड़ता है।

परफॉर्मेंस के मामले में भले ही यह (स्नैपड्रैगन 765G प्रोसेसर) स्नैपड्रैगन 865 से हल्का हो, लेकिन स्नैपड्रैगन 765G की सबसे खास बात है कि यह क्वालकॉम का पहला प्रोसेसर है जो इंटीग्रेटेड 5G मॉडेम के साथ आता है।

Leave a Comment