चाणक्य की इन बातों को मान लिया तो नहीं होगी भविष्य में पैसे की दिक्कत!

 
नई दिल्ली 

कुशल अर्थशास्त्री रहे आचार्य चाणक्य की नीतियां मानव जीवन को सफल बनाने में मददगार साबित होती हैं. उन्होंने धर्म, संस्कृति, न्याय, अर्थ और राजनीति समेत कई मुद्दों पर अपने विचारों को चाणक्य नीति में समाहित किया है. उनकी नीतियों में समस्याओं का समाधान मिलता है. उनके बताए रास्ते पर चलकर मनुष्य कठिन से कठिन चुनौतियों पर आसानी से सफलता प्राप्त कर सकता है. चाणक्य ने भविष्य के लिए पैसे को संरक्षित रखने और उसके सही इस्तेमाल को लेकर चाणक्य नीति में कई बातों का उल्लेख किया है, आइए जानते हैं उन बातों के बारे में…

1. चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य के लिए धन का संरक्षण बेहद जरूरी है. बुरे समय के लिए पैसे को बचाकर रखने वाला व्यक्ति बुद्धिमान कहलाता है. उसे संकट के दौरान परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता. उसके विपरीत जो विलासिता में लगे रहते हैं और पैसों को पानी की तरह बहाते हैं, वो बुरे समय में खाली हाथ रह जाते हैं.लक्ष्मी को चंचल माना गया है. एक समय ऐसा आता है जब एकत्रित किया हुआ पैसा भी नष्ट हो जाता है.

2. पैसा जीवन में संतुलन पैदा करता है, इसलिए इसका इस्तेमाल साधन के रूप में करना चाहिए. चाणक्य कहते हैं कि ऐसा धन किसी काम का नहीं जिसके लिए धर्म त्यागना पड़े और दुश्मनों के आगे-पीछे घूमना पड़े.

3. लोगों को ऐसे स्थान पर बिलकुल भी नहीं रहना चाहिए जहां उनका सम्मान या आदर न किया जाए. चाणक्य कहते हैं कि अनादर के साथ जीवन बिताना मरने के समान है. यही नहीं, जहां व्यक्ति के लिए रोजगार व जीविका का साधन न हो उस जगह को तुरंत छोड़ देना चाहिए. जहां मित्र, सगे-संबंधी न हों, शिक्षा की व्यवस्था न हो, उस जगह को भी छोड़ देना चाहिए.
 
4. चाणक्य कहते हैं कि धन अर्जित करने के लिए मनुष्य का लक्ष्य निर्धारित होना अत्यंत आवश्यक है. लक्ष्य निर्धारित नहीं होने पर सफलता नजदीक होते हुए भी हाथ से निकल जाती है. इसलिए कभी भी अपनी योजनाओं की चर्चा किसी और से न करें. अपने काम पर ध्यान लगाकर आगे की ओर बढ़ना ही सफलता की कुंजी है.
 
5. चाणक्य ने धन को बचाने का सबसे बड़ा उपाय उसे खर्च करना बताया है. उनके मुताबिक जिस प्रकार तालाब या बर्तन में रखा पानी एक समय बाद खराब हो जाता है वैसे ही बिना प्रयोग वाला धन भी एक समय बाद काम में नहीं आता. इसलिए धन का प्रयोग दान, निवेश और सुरक्षा पर करते रहना चाहिए.

Leave a Comment