भारत-चीन की सेना के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक कल

 नई दिल्ली                                                                                                    
भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर चल रहा तनाव अब समय के साथ कम हो रहा है। इसी बीच दोनों देशों की सेना के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक मंगलवार को होगी। यह जानकारी सरकारी सूत्रों ने सोमवार को दी।

सूत्रों ने पीटीआई को बताया कि दोनों देशों के बीच यह बैठक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के भारतीय हिस्से में चुशूल में आयोजित की जाएगी। इस बातचीत में दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच आठ सप्ताह के कड़वे गतिरोध के कारण ऊंचाई वाले क्षेत्र में शांति और अमन की बहाली को अंतिम रोडमैप देने की कोशिश होगी।

बीते दिनों चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और गलवान घाटी से अपने सैनिकों को वापस बुला चुकी है। इसके अलावा पिछले एक सप्ताह में पैंगोंग सो क्षेत्र में फिंगर फोर से सैनिकों की उपस्थिति को काफी कम कर दिया है। भारत ने लगातार कहा है कि चीन को फिंगर फोर और आठ के बीच के क्षेत्रों से अपनी सेना वापस लेना ही होगा।

हाल ही में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच लगभग दो घंटे की टेलीफोनिक बातचीत हुई थी, जिसके बाद दोनों देशों की सेनाएं औपचारिक रूप से पिछले सोमवार से झड़प वाली जगह से पीछे हटने की शुरुआत कर दी थी।

इससे पहले शुक्रवार को, भारत-चीन ने कूटनीतिक वार्ता का एक और दौर आयोजित किया था, जिसके दौरान दोनों पक्षों ने शांति और शांति की 'पूर्ण बहाली' के लिए पूर्वी लद्दाख में सैनिकों के पीछे हटने के फैसले को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया था। बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि दोनों सेनाओं के वरिष्ठ कमांडर जल्द ही मुलाकात करके डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया को सुनश्चित करेंगे।

Leave a Comment