NASA ने Nokia को दिया चांद पर 4G लगाने का कॉन्ट्रैक्ट: चांद पर 4G

 
नई दिल्ली
 
 अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA और Nokia मिल कर चाँद पर 4G LTE कनेक्टिविटी पहुँचाएँगे. NASA ने ऐलान किया है कि चाँद पर पहला सेल्यूलर कनेक्टिविटी के लिए Nokia को कॉन्ट्रैक्ट दिया जा रहा है.

Nokia ने एक स्टेटमेंट में कहा है कि LTE / 4G टेक विश्वसनीय और हाई डेटा रेट्स दे कर चाँद के सर्फेस पर क्रांति ला सकता है. आपको बता दें कि NASA Artemin Program के तहत 2024 तक चाँद पर मैन्ड मिशन भेजने की तैयारी में है. नोकिया ने कहा है कि NASA Artemin के दौरान कम्यूनिकेशन बड़ा रोल प्ले करेगा.

नोकिया के मुताबिक़ Nokia Bell Labs 2022 के आख़िर तक चाँद के सर्फेस पर लो पावर, स्पेस हार्डेन्ड और एंड टु एंड LTE सल्यूशन लगाएगी. NASA ने नोकिया सहित कई कंपनियों को टोटल 370 मिलियन डॉलर (लगभग 27.13 अरब रुपये) देगी ताकि चाँद पर 4G LTE नेटवर्क लगाया जा सके. ये कंपनियाँ चाँद के सर्फेस पावर जेनेरेशन, क्रायोजेनिक फ्रीजिंग और रोबॉटिक्स टेक्नोलॉजी भी लगाएंगी. इन सब के आधार पर फिर चाँद पर 4G नेटर्वक लगाने का प्लान है.

ग़ौरतलब है कि Nokia Bell Labs को 14 मिलियन डॉलर्स (लगभग 1.03 अरब रुपये) का कॉन्ट्रेक्ट दिया गया है. चाँद पर 4G लगाने के लिए Nokia Bell Lab स्पेस फ़्लाइट इंजीनियरिंग कंपनियों के साथ पार्टनरशिप करेगी. स्पेस एजेंसी NASA ने टोटल 14 अमेरिकी कंपनियों को चुना है जो चाँद पर 4G नेटवर्क के लिए बेसिक इंफ़्रास्ट्रक्चर तैयार करेंगी. इस मिशन के लिए अरबों रुपये का फंड रखा गया है.

ग़ौरतलब है कि इन कंपनियों ने मुख्य तौर पर Space X, Nokia, Lockheed Martin, Sierra, ULA और SSL रोबोटिक्स शामिल हैं. ये सभी अमेरिका की ही कंपनियाँ हैं.