राष्ट्रपति बाइडन से सांसदों की गुहार, प्रवासी युवाओं को निष्कासन से बचाएं

वाशिंगटन
अमेरिका के 49 सांसदों ने राष्ट्रपति बाइडेन प्रशासन को पत्र लिखकर निवेदन किया है कि करीब 2 लाख ‘डॉक्यूमेंटेड ड्रीमर्स’ यानी दस्तावेज वाले प्रवासियों को देश से निकालने जाने से बचाएं। इसके लिए उन्हें डिफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल (डीएसीए) कार्यक्रम में शामिल किया जाए। कार्रवाई की जद में आए दो लाख युवाओं में अधिकतर भारतीय-अमेरिकी हैं।

डॉक्यूमेंटेड ड्रीमर्स शब्द उन युवाओं के लिए उपयोग होता है जो आप्रवासी वीजा रखने वाले लोगों की संतान या आश्रित हैं। इनमें एच1बी वीजा पर काम करने वाले भी शामिल हैं। ये बच्चे या आश्रित 21 वर्ष की उम्र तक साथ रह सकते हैं। ऐसे में ग्रीन कार्ड न होने पर उन्हें देश से निकाल दिया जाता है।

कांग्रेस सदस्य डेबोरा रॉस व सीनेट सदस्य एलेक्स पेडिला के नेतृत्व में 49 डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन सांसदों ने अमेरिका के गृहमंत्री आलेजांड्रो मायोर्कास को पत्र लिखा है। अमेरिका में डॉक्यूमेंटेड ड्रीमर्स के लिए इंप्रूव द ड्रीम संस्था बनाकर काम कर रहे डी पटेल ने सांसदों के कदम का स्वागत किया।

सांसदों ने 15 जून 2007 से अमेरिका में रहते हुए डीएसीए का आवेदन कर चुके लोगों को पात्र मानने की शर्त में बदलाव का निवेदन किया है। 2007 के बाद अमेरिका आए लोगों के लिए भी पात्रता की समय सीमा बदलने की मांग की है।