सार्वजनिक रूप से टीका लगवाने के लिए हूं तैयार: बाइडेन  

अमेरिका
अमेरिका के नागरिकों को कोरोना वैक्सीन लेने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिकियों को कोरोनावायरस वैक्सीन लेने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा और इसके प्रभाव और सुरक्षा के बारे में चिंतित लोगों के लिए वह सार्वजनिक रूप से टीकाकरण कराने के लिए तैयार हैं। जो बाइडेन ने वैक्सीन के बारे में बात करते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि यह अनिवार्य होनी चाहिए। मैं नहीं चाहता कि यह अनिवार्य हो, ठीक वैसे ही जैसे मुझे नहीं लगता मास्क अनिवार्य हो।

जो बाइडेन जनवरी में राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। उन्होंने कहा कि वह यह सुनिश्चित करेंगे कि कोरोना वैक्सीन सभी के लिए निशुल्क उपलब्ध हो। उन्होंने आगे कहा, “मैं संयुक्त राष्ट्र के राष्ट्रपति के रूप में वह सबकुछ करूंगा, जिससे लोगों को सही काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। इसीलिए मैंने अपने भाषण में कहा था कि मैं लोगों से 100  दिनों के लिए मास्क पहनने की अपील करने जा रहा हूं, यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है जिसपर दंड जैसा प्रावधान किया जाए।

बता दें, शुक्रवार को अमेरिका में कोरोना वायरस से 2,861 नई मौतें दर्ज की गई हैं। कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1 करोड़ 40 लाख हो गई है और मौत का आंकड़ा 275,000 पार कर चुका है। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने आगे कहा कि अगर लोग उनका कहा मानकर 100 दिनों के लिए मास्क पहनते हैं तो वह इस बीमारी से प्रभाव को कम कर सकते हैं, इससे मौत के आंकड़ों में कमी आएगी। 

सार्वजनिक रूप से टीका लगवाने के लिए हूं तैयार: बाइडेन  
बाइडेन ने कहा कि वह सार्वजनिक रूप से टीका लगवाने के लिए तैयार हैं। वैक्सीन की प्रभावकारिता और सुरक्षा के बारे में किसी भी तरह की चिंता को इस प्रकार दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि मेरा सार्वजनिक तौर पर वैक्सीन लेना, मुझे देखने वाले लोगों को कोरोना वायरस वैक्सीन के प्रति विश्वास दिलाएगा। आप लाखों अमेरिकियों को वैक्सीन लेते देखने जा रहे हैं और आप संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के चार पूर्व राष्ट्रपतियों को वैक्सीन लेते देखने जा रहे हैं। हम सभी को विज्ञान में पुनर्विश्वस की जरूरत है, और हम इसके लिए प्रयास करने जा रहा हैं।

 जो बाइडेन ने की 100 दिनों तक मास्क पहनने की अपील

जो बाइडन ने बृहस्पतिवार को अमेरिका के लोगों से से 100 दिनों तक मास्क पहनने की अपील की है। नवनिर्वाचित राष्ट्रपति के इस कदम को उल्लेखनीय माना जा रहा है क्योंकि डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए मास्क पहनने के उपाय को कभी कारगर नहीं माना।

कई लोक स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि मास्क पहनना इस महामारी पर काबू पाने का बेहद कारगर तरीका है। संक्रमण से अमेरिका में 2,75,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। बाइडन मास्क पहनने के मुखर समर्थक रहे हैं और उन्होंने इसे देशभक्ति जताने का एक तरीका बताया है। चुनाव प्रचार के दौरान भी बाइडन ने इसका बढ़-चढ़ कर समर्थन किया।

'सीएनएन के जैक टैपर से बात करते हुए बाइडन ने कहा कि वह अगले साल 20 जनवरी को पद संभालने के समय अमेरिका के लोगों से 100 दिनों तक मास्क पहनने की अपील करेंगे। उन्होंने कहा, ''कार्यभार संभालने के पहले दिन मैं लोगों से अपील करूंगा कि वे 100 दिनों तक मास्क पहनें। संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुझे लगता है कि इस पर जोर देना जरूरी है।

बाइडन ने कहा कि वह अपने प्रशासन में डॉ. फॉसी को भी पद पर बने रहने के लिए कहेंगे। फॉसी नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शस डिजीजेज के निदेशक हैं।