आर्थिक मोर्चे पर भारत की अर्थव्यवस्था इस साल 9.5 % की दर से बढ़ेगी इकॉनमी 

नई दिल्ली
अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के नवीनतम अनुमानों के अनुसार, भारत की अर्थव्यवस्था 2021 में 9.5 प्रतिशत और 2022 में 8.5 प्रतिशत की दर से बढ़ने की ओर अग्रसर है। कोविड-19 महामारी के प्रभाव के कारण 2020 में भारत की अर्थव्यवस्था में 7.3 प्रतिशत की कमी आई थी। आईएमएफ ने भारत के वृद्धि अनुमानों को इस साल जुलाई में जारी अपने पिछले अनुमान पर स्थिर रखा गया है, हालांकि यह अप्रैल के अनुमानों के मुकाबले 1.6 प्रतिशत कम है। आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा कि, 'हमने भारत के लिए इस साल के अपने वृद्धि पूर्वानुमान में कोई बदलाव नहीं किया है। मेरा मतलब है कि भारत एक बेहद कठिन दूसरी लहर से बाहर आया और जुलाई में एक बड़ी गिरावट आई, लेकिन हमारे पुर्वानुमान में अभी तक कोई बदलाव नहीं हुआ है।' गोपीनाथ ने कहा कि वित्तीय बाजार के संबंध में भारतीय अर्थव्यवस्था पहले से ही कई चुनौतियों का सामना कर रही है।

वैश्विक अर्थव्यवस्था के 2021 में 5.9 प्रतिशत और 2022 में 4.9 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है, जो जुलाई के पूर्वानुमान की तुलना में 2021 के लिए 0.1 प्रतिशत अंक कम है। आईएमएफ ने अपने विश्व आर्थिक आउटलुक अक्टूबर 2021 में कहा, 2021 के लिए नीचे की ओर संशोधन उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के लिए गिरावट को दर्शाता है। अमेरिका के इस साल छह फीसदी और अगले साल 5.2 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान है। आईएमएफ ने अनुमान लगाया है कि चीन 2022 में 5.6 फीसदी और अमेरिका 5.2 फीसदी की दर से विकास करेगा। जर्मनी, फ्रांस और इटली जैसी प्रमुख यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं के लिए, आईएमएफ ने क्रमशः 4.6 प्रतिशत, 3.9 प्रतिशत और 4.2 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाया। यूनाइटेड किंगडम के 2022 में 5 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान है। आईएमएफ के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका और कुछ उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं में मुद्रास्फीति में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। जैसे-जैसे प्रतिबंधों में ढील दी गई है, मांग में तेजी आई है, लेकिन प्रतिक्रिया देने के लिए आपूर्ति धीमी रही है। 

वैक्सीन फॉर्मूले चोरी के दावों को रूस ने नकारा, बताया निराधार आईएमएफ ने कहा कि 2022 में ज्यादातर देशों में कीमतों का दबाव कम होने की उम्मीद है और मुद्रास्फीति की संभावनाएं बेहद अनिश्चित हैं। मुद्रास्फीति में ये वृद्धि तब भी हो रही है, जब कई अर्थव्यवस्थाओं में रोजगार पूर्व-महामारी के स्तर से नीचे है, जिससे नीति निर्माताओं को मुश्किल विकल्प मिल रहे हैं। आईएमएफ ने उल्लेख किया कि वैश्विक आर्थिक संभावनाओं को मजबूत करने के लिए वैक्सीन की तैनाती, जलवायु परिवर्तन और अंतरराष्ट्रीय तरलता पर बहुपक्षीय स्तर पर मजबूत नीतिगत प्रयास की आवश्यकता है।