क्या बार बार मुंडन कराने से आते हैं बच्चों के घने बाल

कई लोगों का मानना है कि बच्‍चों का मुंडन करवाने से बाल घने आते हैं। कई धार्मिक संस्‍कारों के तहत बच्‍चों का मुंडन करवाया जाता है। यहां तक कि एशिया में भी इस रीति का पालन किया जाता है। एक उम्र के बाद बच्‍चे का मुंडन करवाना जरूरी होता है ताकि उसके बाल घने और अच्‍छे आएं। हिंदू संस्‍कृति में भी मुंडन संस्‍कार किया जाता है। हालांकि, गौर करने वाली बात ये है कि इस तरह की धारण में कितनी सच्‍चाई है।

क्‍या है सच
अकसर माता-पिता अपने बच्‍चे का मुंडन ये सोचकर करवाते हैं कि उससे बच्‍चे के बाल पहले से ज्‍यादा घने और हेल्‍दी आएंगे। यहां पर आपको ये समझना जरूरी है कि अगर आपके बच्‍चे के बाल मुलायम और हल्‍के हैं तो ये उसके जन्‍मजात बाल हैं। कई बच्‍चों के सिर से जन्‍म के लगभग चार महीने के बाद एक मुलायम परत हट जाती है और इसकी जगह नए बाल आ जाते हैं जिन्‍हें मैच्‍योर हेयर कहा जाता है। इन बालों से ही इस बात का पता चलता है कि असल में आपके बच्‍चे के बाल कैसे हैं और ये जींस पर निर्भर करता है। मुंडन करवाने से इस चीज पर कोई असर नहीं पड़ता है।

ये बात सच है कि बाल रोम छिद्रों से उगते हैं और जन्‍म के समय हमारे सिर पर निश्चित संख्‍या में हेयर फॉलिकल्‍स होते हैं।

निष्‍कर्ष
वैसे तो ये पूरी तरह से आपका निर्णय है कि आपको अपने बच्‍चे का मुंडन करवाना है या नहीं लेकिन आपको ये समझना चाहिए कि मुंडन के बाद भी बाल वैसे ही उगते हैं जैसे कि शिशु के चार महीने की उम्र में होते हैं।

Leave a Comment