जनसंपर्क विभाग कोविड-19 से उत्पन्न विषम परिस्थितियों में भी जन-जन से जुड़ा रहा

रायपुर
 कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन की अवधि में भारतीय रेलवे द्वारा किए जा रहे योगदान, ग्राउंड लेवल तक पहुँचाई जा रही सुविधाओं को जनसंचार माध्यम से जन-जन तक पहुंचाने में जनसंपर्क विभागों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती हैं । भारतीय रेल के जनसंपर्क के अधिकारी-कर्मचारी लॉक डाउन की अवधि में एक- दूसरे से संपर्क बनाए (24×7 ) चौबीसों घंटे रेल जनसूचनाये पहुँचाने के कार्यो में दिन-रात लगे रहे यह प्रकिया निरंतर जारी हैं। बिना रुके -बिना थके उद्द्देश्य सभी का रेल की आवश्यक जानकारियों का प्रचार- प्रसार हो।

जनसंपर्क एक सतत प्रक्रिया है, जिसे फलीभूत करने के लिए रेल के आंकड़ों को जुटाना होता है । रेल की खबरों को जनमानस के पटल तक लाने के लिए मानसिक संघर्षमय प्रक्रिया से आमजन तक पहुंचाई जाती है । पठन-पाठन ,श्रवण- दृश्य योग्य जानकारियां जनसंचार माध्यमों के माध्यम से जन- जन तक पहुँचती हैं। रायपुर रेल मंडल के जनसंपर्क विभाग ने लॉक डाउन की विषम परिस्थितियों में मार्च से 31 मई तक लगभग 164 प्रेस विज्ञप्ति जारी की।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल भारतीय रेलवे के सभी मंडलों में सिरमोर रहता है, लदान का क्षेत्र हो या ट्रैनों की समय समयबद्धता की बात हो, उत्कृष्ट कार्यों के क्षेत्र में यात्री सुविधाओं के मामले में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल कोविड-19 से उत्पन्न विषम परिस्थितियों में जन- जन से जुड़ा रहा । रायपुर मंडल बेहतरीन कार्यशैली एवं उत्कृष्ट यात्री सुविधाओं के लिए जाना जाता है। यात्रियों द्वारा प्राप्त फीडबैक मंडल की सफलता को दर्शाते हैं।

कोविड-19 की विषम परिस्थितियों में रायपुर रेल मंडल ने अहम भूमिका निभाई है । जिसकी जानकारी जन – जन तक पहुंचाने में संचार माध्यमों ने रायपुर रेल मंडल को सहयोग किया है। रायपुर रेल मंडल एवं संचार माध्यमों के बीज सेतु का कार्य रायपुर रेल मंडल के जनसंपर्क विभाग द्वारा किया जाता हैं । जनसंपर्क विभाग ने जनवरी माह के अंत में पहली बार करोना वायरस संक्रमण से बचने के डिस्प्ले आवश्यक जानकारी रायपुर मंडल के स्टेशनों पर उपलब्ध कराई । 06 मार्च 2020 से रायपुर स्टेशन पर कोरोना वायरस को लेकर अलर्ट जारी हुआ तत्पश्चात इसकी गंभीरता को देखते हुए स्टेशनों पर सघन सक्रिय अभियान चलाया गया। स्टेशन पर कार्यरत स्टाफ को मास्क, सैनिटाइजर उपलब्ध कराए गए, हेल्पडेस्क लगाया गया, आने जाने वाली ट्रेनों को सैनिटाइज किया जाने लगा ।

रेलवे बोर्ड द्वारा जारी सभी अनुदेशकों आवश्यक जानकारियों को जन-जन तक पहुंचाने में जनसंपर्क विभाग जुटा रहा । 15 मार्च से ट्रेनों में कंबल बंद करना हो , 17 मार्च से कुछ ट्रेनों को रद्द किया गया, 18 मार्च से कुछ गाड़ियों को रद्द किया गया, 19 मार्च को और अधिक गाड़ियों को रद्द किया गया । 19 मार्च से अनावश्यक रियायतों को रोका गया, 20 मार्च से प्लेटफार्म टिकटों की दर बढ़ाई गई, 21 मार्च को लगभग सभी ट्रेनों को बंद कर दिया गया । 21 मार्च से नए रिफंड रूल में संशोधन किया गया और 22 मार्च से पूरे रेलवे स्टेशन पर काउंटर बंद कर दिया गया । 25 मार्च पूरे देश में लॉकडाउन लगाया गया जो कि 31 मई तक जारी रहा । इस दौरान रायपुर रेल मंडल ने माल गाड़ियों का परिचालन, पार्सल गाड़ियों का परिचालन, रेलवे के परंपरागत कोचों को आइसोलेशन कोचों में तब्दील किया और संपूर्ण भारतीय रेलवे एक परिवार की तरह कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए टीम की तरह जुट गया ।

मंडल के जनसंपर्क विभाग द्वारा लॉक डाउन की विषम परिस्थितियों में अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा किए जा रहे संघर्षों को उजागर किया गया । जनसंपर्क विभाग ने जनसंचार माध्यमों से लोगों को अवगत कराया। रेल प्रशासन किस तरह देशवासियों की सेवा में जुटा है,पूरे देश में खाद्यान्नों की सप्लाई हो, आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति, यात्रियों के टिकट रिफंड के नियमों का उल्लेख, आइसोलेशन कोचों की विशेषताएं, भारतीय रेलवे के रेलपथ के संरक्षक ट्रैकमैनों का संघर्ष, विकट परिस्थितियों में आवश्यक मंद एवं घुमंतू बच्चों को खाना उपलब्ध कराना, लोको पायलट,गार्ड, कंट्रोल विभाग सभी से अवगत कराया । रेल परिचालन से जुड़ी अहम जानकारियां, रेल कर्मचारियों एवं उनके परिवारों द्वारा रेल परिवार के मास्क बनाया जाना, कम्युनिटी हॉल रेलवे इंस्टीट्यूट, आरपीएफ बैरक को क्वॉरेंटाइन केंद्रों में बदलना, पार्सल ट्रेनों की जानकारियां, आरोग्य सेतु ऐप का प्रचार प्रसार, कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने में सेक्रो द्वारा खाद्य पदार्थों का वितरण, महिला रेल कर्मियों का योगदान, रेलवे चिकित्सालय की अहम भूमिका, प्रवासी श्रमिकों के लिए स्पेशल ट्रेन , रेलवे के तकनीकी विभाग की कार्यकुशलता पीपी यार्ड, इलेक्ट्रिक लोको शेड, मार्शलिंग यार्ड की जानकारी, डीजल लोको शेड रायपुर एवं कोचिंग डिपो दुर्ग में आत्मनिर्भरता की ओर उठाए गए कदम जैसे बिना हैंड टच किए उपयोग में आने वाला हैंड सैनिटाइजर यंत्र,कोचों को सैनिटाइज करने के लिए रोबोट, इस दौरान जनप्रतिनिधियों द्वारा स्टेशनों पर निरीक्षण – आवागमन रायपुर रेल मंडल में नए अधिकारियों का आवागमन की जानकारी, रेलवे टिकट के रिफंड लेने के लिए आरक्षण केंद्रों के खुलने, स्पेशल गाड़ियों के परिचालन की जानकारियां यात्रियों को यात्रा के लिए जारी दिशानिर्देश, स्टेशनों में प्रवेश एवं निकास की व्यवस्थाएं रेल मंत्रालय की यात्रियों से अपील ऑनलाइन संरक्षा सेमिनार, साफ -सफाई व्यवस्था, स्पेशल गाड़ियों की समय सारणी, रायपुर रेल मंडल के विभिन्न आंकड़े -डाटा समय-समय पर जनसंचार माध्यमों द्वारा समाचार पत्रों – न्यूज़ चैनल सोशल मीडिया के माध्यम से जन -जन तक पहुंचाने में जनसंपर्क विभाग ने अहम भूमिका निभाई है। इसके लिए रायपुर रेल मंडल मीडिया सदस्यों का आभार व्यक्त करता ह

Leave a Comment